Yaad Shayari – ek naye shayar ki khoobsurat shayariya

Yaad Shayari No. 1 :

Yaad Shayari :

मत खोज मुझे इस बनावटी रिश्तों में ,
मैं बस तुझमें हे चुप हूं ,
मैं बस तुझमें ही बसा हूं ,
ज़रा डुबकी तो मार गहराई में ,
ज़रा कीच तो ला मुझे अच्छी में ,
जला दे मेरी चमक से सबको ,
आज सबसे रब रूह करादे मुझको ।

                                   – समर्थ

Mat khoj mujhe iss banawti rishto mein,
Mein bs tujhme he chupa hu,
Mein bs tujhme he basa hu,
Zara doobki to maar gehrai mein,
Zara kheech to laa mujhe acchai mein,
Jala de meri chamak se sabko,
Aaj sabse ruba ruh karade mujhko….

                                     – SAMARTH

 

Yaad Shayari
Yaad Shayari

 

Yaad Shayari No. 2 :

पर उन्हें कामिल करना मुमकिन नहीं ,
मेरे पास हो कर भी क्यों दूर है वोह ,
मेरे साथ हो कर भी क्यों मजबूर है वोह ,
हाल – ए – दिल का अब में कैसे बाया करू ,
उनका साथ पाने को और क्या क्या करू ,
अब तो बस इस हारे इश्क का इंतजार है ,
फूल की पट्टी को बस रोशनी का है तोह इंतजार है ।

                                      – समर्थ

Par unhe kaamil karna mumkin nahi,
Mere pass ho kar bhi kyu duur hai wo,
Mere saath ho kar bhi kyu majboor hai wo,
Haal-e-dil ka ab mein kese baya karu,
Unka saath paane ko aur kya kya karu,
Ab to bs iz haare ishq ka intezaar hai,
Fool ki patti ko bs roshni ka he to intezar hai…..

                                         – SAMARTH

 

Yaad Shayari
Yaad Shayari

 

Shayari No. 3 :

वक्त सब बदल रहा है ,
सारे रिश्ते पलट रहे है ,
रिश्तों को बस रिश्ते से आस थी ,
वक्त अब वो भी तोड़ रहा है ।

                              – समर्थ

Waqt sab badal raha hai ,
Saare rishte palat rahe hai ,
Rishto ko bas rishte se aas thi ,
Waqt ab wo bhi tod raha hai…

                                – SAMARTH

 

Yaadein Shayari

 

Shayari No. 4 :

ये बचपन का प्यार भी ने ,
कितना खूबसूरत होता है ,
ना कोई वादे ना कोई इरादे ,
सिर्फ वोह और उसकी बाते ,
खिल खिलाते चेहरे और ,
मुस्कुराती चाहते…..
ना उसके मिलने का सुख ,
और ना खोने का दर्द ,
बस हम और हमारी याद ।

                               – समर्थ

Ye bachpan ka pyaar bhi na ,
Kitna khoobsurat hota hai ,
Na koi waade na koi iraade ,
Sirf wo aur uski baate ,
Khil khilaate chehre aur ,
Muskurati chahte….
Na uske milne ka sukh ,
Aur na khoone ka dard ,
Bas hum aur hamari yaade….

                                 – SAMARTH

 

 

Yaadein Shayari

 

Shayari No. 5

अब उन गलियों में जाना गवारा ना होगा ,
जहा तुम्हारी यादों का साया ना होगा ,
बदल गई है ये ज़िन्दगी की रहे ,
अब तुमसे हमारा मिलना दुबारा ना होगा ।

                              – समर्थ

Ab unn galiyon meh jaana gawara na hoga ,
Jaha tumhari yaado ka saaya na hoga ,
Badal gayi hai ye zindagi ki raahe ,
Ab tumse humara milna dubara na hoga….

                             – SAMARTH

 

Yaadein Shayari

 

waah shayar

We at waah shayari provide you with the best shayari collection you can find on the internet.

Leave a Reply