Sharab Shayari – 10 behtreen sharab shayari

Sharab Shayari  1 :

Sharab Shayari :

एक जहान माँगा था जिसमे बहुत सारा प्यारा मिले

मगर दे दिया मैख़ाना जहा बहुत सारी शराब थी

एक कन्धा माँगा था जिसका मुझे सहारा मिले

मगर दे दी जिंदगी जहाँ दुनिया भर की तन्हाई थी

Ekk jahaan maanga tha jisme bahut saara pyaar mile,

Magar de diya maikhana jaha bahutsaari sharab mile.

Ekk andha manga tha jiska mujhe sahara mile,

Magar de diya zindagi jaha duniya bhar ki tanhai mile.

Sharab Shayari
Sharab Shayari

Sharab Shayari  2 :

तुम हसीन हो गुलाब जैसी हो

बहुत नाजुक हो ख्वाब जैसी हो

दिल की धड़कन में आग लगाती हो

होठों से लगाकर पी जाऊँ तुम्हे सर से पांव तक शराब जैसी हो

Tm haseen ho gulab jaisi ho,

Bahut nazuk ho khawaab jaisi ho.

Dil ki dhadkan mein aag lagati ho,

Hootho se laga kr pee jau tumhe,

Tm sar se paair tak sharab jaisi ho.

Sharab Shayari
Sharab Shayari

Sharab Shayari  3 :

खुशियों से नाराज है मेरी जिंदगी

प्यार की मोहताज़ है मेरी जिंदगी

हंस लेता हूँ लोगो को दिखाने के लिए

वरना दर्द की किताब है मेरी जिंदगी

Khushiyo se naraz hai meri zindagi,

Pyaar ki moohtaj h meri zindagi.

Hass leta hu logo ko dikhane ke liye,

Varna dard ki kitaab h meri zindagi.

Sharab Shayari
Sharab Shayari

Sharab Shayari  4 :

मैं तोड़ लेता अगर तू गुलाब होती,

मैं जवाब बनता अगर तू सवाल होती

सब जानते है मैं नशा नही करता

मगर मैं भी पी लेता अगर तू शराब होती

Mai todd leta agar tu gulab hoti,

Mai jawaab banta agar tu sawaal hoti.

Sab jante hai mai nasha nhi krta,

Magar mai bhi pee leta agar tu sharab hoti.

Sharab Shayari
Sharab Shayari

Sharab Shayari  5 :

नशा मोहब्बत का हो या शराब का

होश दोनों में खो जाते है

फर्क सिर्फ इतना है की शराब सुला देती है

और मोहब्बत रुला देती है

Nasha mohabaat ka ho ya sharab ka,

Hosh dono mein kho jate hain.

Fark sirf itna hai ki sharab sula deti h,

Aur mohabaat rula deti hain.

Sharab Shayari
Sharab Shayari

Shayari  6 :

तुम क्या जानो शराब कैसे पिलायी जाती है

खोलने से पहले बोतल हिलाई जाती है

फिर अबाज़ लगाई जाती है आ जाओ टूटे दिल वालो

यहाँ दर्दे-दिल की दबा पिलाई जाती है

Tum kya jaano sharab kaise pilaae jati hai,

Kholne se pehle botal hilaae jati hai.

Phir aawaaz lagae jati hai aa jao tutte dil walo,

Yahan dard-dil ki dawaa pilaae jati hai.

Sharab Shayari

Shayari  7 :

रात हम पिए हुए थे मगर

आप की आँखें भी शराबी थीं

फिर हमारे खराब होने में

आप ही कहिये क्या खराबी थी

Raat hum piye hue the magar,

Aap ki aankhe bhi sharab thi.

Phir hamare kharab hone mein,

Aap hi kahiye kya kharabi thi.

Raat hum piye hue the magar

Shayari  8 :

प्यार और शराब में छोटा सा फर्क हैं

लेकिन ये फर्क बहुत बड़ा हैं

प्यार दर्द देता हैं

शराब दर्द भुला देता हैं

Pyaar aur sharab meh chota sa fark hai,

Lekin ye fark bhut bada hai.

Pyaar dard deta hai,

Sharab dard bhula deta hai.

Pyaar aur sharab meh chota

Shayari  9 :

मैं खुदा का नाम लेकर पी रहा हूँ दोस्तों,

ज़हर भी इसमें अगर होगा दवा हो जाएगा,

सब उसी के हैं, हवा, खुशबू, ज़मीनो-आसमाँ

मैं जहाँ भी जाऊँगा उसको पता हो जाएगा

Mai khuda ka naam lekar pee rha hu dosto,

Zehar bhi isme agar hoga dawa ho jaega.

Sab ussi ka hai,hawaa,khusbu,zaamino-aasamaa,

Mai jaha bhi jau usko paat ho jaega.

Mai khuda ka naam lekar pee rha hu dosto

Shayari  10 :

महफ़िल में चल रही थी

हमारे कत्ल की तैयारी

हम पहुँचे तो बोलें

बहुत लम्बी उम्र है तुम्हारी

Mehfil meh chal rhi thi,

Hamare katl ki tayyari.

Hum pahuche toh bole,

Bhut lambi umar hai Tumahri.

Mehfil meh chal rhi thi

waah shayar

We at waah shayari provide you with the best shayari collection you can find on the internet.

Leave a Reply