Sad Shayari : Rahat fateh indori ji ki kuch nami shayari

Sad Shayari 1 :

Sad Shayari :

जितने अपने थे सब पराए थे
हम हवा को गले लगाए थे
जितनी क़समें थी सब थीं शर्मिंदा
जितने वादे थे सर झुकाए थे
जितने आँसू थे सब थे बेगाने
जितने मेहमां थे बिन बुलाए थे
सब क़िताबें पढी पढ़ाई थीं
सारे क़िस्से सुने सुनाए थे
एक बंजर ज़मीं के सीने में
मैंने कुछ आसमां उगाए थे

वरना औक़ात क्या थी सायों की
धूप ने हौसले बढ़ाए थे
सिर्फ़ दो घूंट प्यास की ख़ातिर
उम्र भर धूप में नहाए थे
हाशिए पर खड़े हुए हैं हम
हम ने ख़ुद हाशिए बनाए थे
मैं अकेला उदास बैठा था
शाम ने कहकहे लगाए थे है
ग़लत उस को बेवफ़ा कहना
हम कहां के धुले धुलाए थे
आज कांटों भरा मुक़द्‌दर है
हम ने गुल भी बहुत खिलाए थे

                                – RAHAT FATEH INDORI

Jitne apne the sab parae the
Hum hawa ko gale lagae the
Jitni kasame thi sab thi sharminda
Jitne waade the sar jhukae the
Jitne aansoo the sab the begaane
Jitne mehmaan the bin bulae the
Sab kitaaben padhi padhai thi
Saare kisse sune sunae the
Ek banjar zameen ke seene mein
Maine kuch aasmaan ugae the

Varna aukaat kya thi saayon ki
Dhoop ne hausle badhae the
Sirf doh ghoont pyaas ki khaatir
Umar bhar dhoop mein nahae the
Haashie par khade hue hain hum
Hum ne khud haashie banae the
Main akela udaas baitha tha
Shaam ne kehkahe lagae the hai
Galat uss ko bewafa kahna
Hum kahaan ke dhule dhulae the
Aaj katton bhara muqad‌dar hai
Hum ne gul bhi bahut khilae the

                                           – RAHAT FATEH INDORI

Sad Shayari
Sad Shayari

Shayari 2 :

सिर्फ़ सच और झूठ की मीज़ान1 में रखे रहे
हम बहादुर थे मगर मैदान में रखे रहे
जुगनुओं ने फिर अंधेरों से लड़ाई जीत ली
चांद सूरज घर के रोशनदान में रखे रहे
धीरे – धीरे सारी किरनें ख़ुदकुशी करने लगीं
हम सहीफ़ा2 थे मगर जुज़दान3 में रखे रहे
बन्द कमरे खोल कर सच्चाइयां रहने लगीं
ख़्वाब कच्ची धूप थे दालान में रखे रहे
सिर्फ़ इतना फ़ासला है जिन्दगी से मौत का
शाख़ से तोड़े गए गुलदान में रखे रहे
ज़िन्दगी भर अपनी गूंगी धड़कनों के साथ-साथ
हम भी घर के क़ीमती सामान में रखे रहे

                                       – RAHAT FATEH INDORI

Sirf sach aur jhooth ki mezaan mein rakhe rahe
Hum bahaadur the magar maidaan mein rakhe rahe
Jugnuon ne phir andhero se ladai jeet lee
Chaand sooraj ghar ke roshanadaan mein rakhe rahe
Dheere – dheere sari kirne khudkushi karne lagi
hum saheefaa2 the magar juzadaana3 mein rakhe rahe
Band kamre khol kar sachchaiyaan rahane lagi
Khwaab kachchi dhoop the daalaan mein rakhe rahe
Sirf itna fasala hai jindagi se maut ka
Shaakh se tode gae guldaan mein rakhe rahe
Zindagi bhar apni goongi dhadkanon ke saath-saath
Hum bhI ghar ke kimati saamaan mein rakhe rahe

                                                          – RAHAT FATEH INDORI

Sad Shayari
Sad Shayari

sad shayari

Sad Shayari in Hindi – Dukh baari pyaari shayari

good post

waah shayar

We at waah shayari provide you with the best shayari collection you can find on the internet.

Leave a Reply