Ruswai Shayari – best collection of ruswai shayari

Ruswai Shayari 1 :

Ruswai Shayari :

वादे पे वो मेरे ऐतवार nahi करते,

हम जिक्रए मोहब्बत सरे bazar नहीं करते,

डरता है दिल unki रुसबाई ना हो जाये,

वो समझते है हम उनसे pyar नहीं करते।

Ruswai Shayari
Ruswai Shayari

Ruswai Shayari  2 :

दुनिया को अपना चेहरा dikhana पड़ा मुझे,

परदा जो दरमियाँ था hatana पड़ा मुझे,

रुसवाइयों के खौफ से भरी mehfil में आज,

फिर उस बेवफा से हाथ milana पड़ा मुझे।

Ruswai Shayari
Ruswai Shayari

Ruswai Shayari  3 :

उनके लबों पे मेरा नाम जब aaya होगा,

ख़ुद को रुसवाई से फिर kaise बचाया होगा,

सुन के fasana औरों से मेरी बर्बादी का,

क्या उनको अपना sitam न याद आया होगा?

Ruswai Shayari
Ruswai Shayari

Shayari  4 :

ज़माने को अपना चेहरा दिखाना pada मुझे,

पर्दा जो दरमियां था hatana पड़ा मुझे,

रुसवाईयों के डर से mehfil में आज,

फिर इस bewafa से हाथ मिलाना पड़ा मुझे।

Ruswai Shayari
Ruswai Shayari

Shayari  5 :

मैं उस का हूँ वो इस ehsaas से इन्कार करता है,

भरी महफ़िल में भी ruswa मुझे हर बार करता है,

यकीं है सारी दुनिया को, khafa है मुझ से वो लेकिन

मुझे मालूम है फिर भी मुझी से pyaar करता है.

Main us ka hoon vo is ehasaas
Ruswai Shayari

Shayari  6 :

फिर उसी की याद में dil बेक़रार हुआ है,

बिछड़ के जिस से हुयी शहर shahar रुसवाई।

Duniya Bhar Ki Ruswaiyaan

Shayari  7 :

दुनिया भर की रुसवाईयाँ और bechain रातें,

ऐ दिल… कुछ तो बता ये maajra क्या है।

Duniya Bhar Ki Ruswaiyaan

Shayari  8 :

इतना रुसवा किए zindagi ने

कि जख्मों से dushmani न रही,

फ़क़त सिर तो jhuka लिया

आदतन sajde में पर बंदगी न रही.

Itna rusva kiya

Shayari  9 :

यूँ ना ruswa होकर,

इस duniya से हम जायेंगे,

आखिरी pal तक

जिन्दगी के safar को हसीन बनायेंगे.

Yun na rusava hokar

Shayari  10 :

जो दिल के हो करीब उसे ruswa नहीं करते,

यूँ अपनी दोस्ती का tamasha नहीं करते,

ख़ामोश रहोगे तो ghutan और बढ़ेगी

अपनों से कोई बात chupaya नहीं करते..

Jo dil ke ho kareeb use

waah shayar

We at waah shayari provide you with the best shayari collection you can find on the internet.

Leave a Reply