Romantic Shayari – Kumar Vishwas ki behtareen shayari

Romantic Shayari 1 :

Romantic Shayari :

मेरा जो भी तर्जुबा है, तुम्हे बतला रहा हूँ मैं ,
कोई लब छु गया था तब, की अब तक गा रहा हूँ मैं |
बिछुड़ के तुम से अब कैसे, जिया जाये बिना तडपे ,
जो मैं खुद ही नहीं समझा, वही समझा रहा हु मैं |

                                                  – Kumar Vishwas

 

Mera jo bhi tarjuba hai, tumhe batla raha hoon main,
Koi laab chu gaya tha tab, ki ab tak gaa raha hoon main.
Bichud ke tum se ab kaise, jiya jaaye bina tadape,
Jo main khud hi nahin samjha, vahi samajha raha hu main.

                                                  – Kumar Vishwas

 

Romance Shayari
Romance Shayari

 

Romantic Shayari 2 :

कहीं पर जग लिए तुम बिन,
कहीं पर सो लिए तुम बिन |
भरी महफिल में भी अक्सर,
अकेले हो लिए तुम बिन |
ये पिछले चंद वर्षों की कमाई साथ है अपने
कभी तो हंस लिए तुम बिन, कभी तो रो लिए तुम बिन |

                                                  – Kumar Vishwas

 

Kahin par jag liye tum bin,
Kahin par so liye tum bin.
Bhari mahfhil mein bhi aksar,
Akele ho liye tum bin.
Ye pichale chnd varshon ki kamai saath hai apne,
Kabhi toh hans liye tum bin, kabhi to roo liye tum bin.

                                                – Kumar Vishwas

 

Romance Shayari
Romance Shayari

 

Romantic Shayari 3 :

ना पाने की खुशी है कुछ, ना खोने का ही कुछ गम है ,
ये दौलत और शोहरत सिर्फ, कुछ ज़ख्मों का मरहम है |
अजब सी कशमकश है,रोज़ जीने, रोज़ मरने में ,
मुक्कमल ज़िन्दगी तो है, मगर पूरी से कुछ कम है |

                                                    – Kumar Vishwas

 

Na paane ki khushi hai kuchh, na khone ka hi kuch gam hai,
Ye daulat aur shohrat sirf, kuch zakhmon ka marham hai.
Ajab si kashmakash hai, roz jeene , roz marane mein,
Mukkamal zindagi toh hai, magar poori se kuch kam hai.

                                                  – Kumar Vishwas

 

Romance Shayari
Romance Shayari

 

Shayari 4 :

भ्रमर कोई कुमुदनी पर मचल बैठा तो हंगामा,
हमारे दिल में कोई ख्वाब पल बैठा तो हंगामा,
अभी तक डूब कर सुनते थे सब किस्सा मोहब्बत का,
मैं किस्से को हकीकत में बदल बैठा तो हंगामा।

                                              – Kumar Vishwas

 

Bhramar Koi Kumudani Par Machal Baithha Toh Hungama,
Humare Dil Mein Koi Khwab Pal Baithha Toh Hungama,
Abhi Tak Doob Kar Sunte The Sab Kissa Mohabbat Ka,
Main Kisse Ko Hakiqat Mein Badal Baithha Toh Hungama.

                                                        – Kumar Vishwas

 

Romance Shayari
Romance Shayari

 

Shayari 5 :

तुम्हारे पास हूँ लेकिन जो दूरी है, समझता हूँ,
तुम्हारे बिन मेरी हस्ती अधूरी है, समझता हूँ,
तुम्हें मैं भूल जाऊँगा ये मुमकिन है नहीं लेकिन,
तुम्हीं को भूलना सबसे जरूरी है, समझता हूँ।

                                                – Kumar Vishwas

 

Tumhare Paas Hoon Lekin Jo Doorie Hai, Samjhta Hoon,
Tumhare Bin Meri Hasti Adhoori Hai, Samjhta Hoon,
Tumhein Main Bhool Jaunga Yeh Mumkin Hai Nahi Lekin,
Tumhi Ko Bhoolna Sabse Jaroori Hai Samjhta Hoon.

                                              – Kumar Vishwas

 

Romance Shayari
Romance Shayari

 

Shayari 6 :

मेरे जीने मरने में, तुम्हारा नाम आएगा ,
मैं सांस रोक लू फिर भी, यही इलज़ाम आएगा |
हर एक धड़कन में जब तुम हो, तो फिर अपराध क्या मेरा ,
अगर राधा पुकारेंगी, तो घनश्याम आएगा |

                                          – Kumar Vishwas

 

Mere jeene marne mein, tumhaara naam aaega,
Main saans rok loo phir bhi, yahi ilazaam aaega.
Har ek dhadkan mein jab tum ho, to phir apraadh kya mera,
Agar raadha pukaarengi, to ghanshyam aaega.

                                          – Kumar Vishwas

 

Romance Shayari
Romance Shayari

waah shayar

We at waah shayari provide you with the best shayari collection you can find on the internet.

Leave a Reply