Nafrat Shayari – best 10 shayari on nafrat

Nafrat Shayari  1 :

Nafrat Shayari  :

मुझसे nafrat की अजब राह निकली उसने,

हँसता बसता dil कर दिया खाली उसने,

मेरे घर की रिवायत से वोह khoob था वाकिफ,

judaai माँग ली बन के सवाली उसने।

Nafrat Shayari
Nafrat Shayari

Nafrat Shayari  2 :

तुम नफरत करो या mohabbat,

दोनों हमारे हक में behtar हैं,

नफरत करोगे तो हम तुम्हारे dimaag में,

मोहब्बत करोगे तो dil में बस जायेंगे।

Nafrat Shayari
Nafrat Shayari

Nafrat Shayari  3 :

खुदा salamat रखना उन्हें,

जो हमसे nafrat करते हैं,

pyaar न सही नफरत ही सही,

कुछ तो है जो वो hamse करते हैं।

Nafrat Shayari
Nafrat Shayari

Nafrat Shayari  4 :

कुछ juda सा है मेरे महबूब का अंदाज,

नजर भी मुझ पर है और nafrat भी मुझसे ही।

Nafrat Shayari
Nafrat Shayari

Shayari  5 :

अगर इतनी ही nafrat है हमसे तो,

दिल से कुछ ऐसी dua करो,

की आज ही तुम्हारी dua भी पूरी हो जाये,

और हमारी zindagi भी।

Nafrat Shayari
Nafrat Shayari

Shayari  6 :

कभी उसने भी हमें mohabbat का पैगाम लिखा था,

सब कुछ उसने अपना हमारे naam लिखा था,

सुना है आज उनको हमारे जिक्र से भी nafrat है,

जिसने कभी अपने dil पर हमारा नाम लिखा था।

Nafrat Shayari

Shayari  7 :

फिर यूँ हुआ के गैर को dil से लगा लिया,

अंदर वो नफरतें थी के bahar के हो गये।

Phir Yoon Hua Ke Gair Ko Dil Se Laga Liya

Shayari  8 :

ये मत कहना कि तेरी याद से rishta नहीं रखा,

मैं खुद tanha रहा पर दिल को तन्हा नहीं रखा,

तुम्हारी चाहतों के फूल तो mehfooz रखे हैं,

तुम्हारी नफरतों की पीड़ को zinda नहीं रखा।

Ye Mat Kahna Ki Teri Yaad Se Rishta Nahin Rakha

Shayari  9 :

चला जाऊँगा मैं धुंध के badal की तरह,

देखते रह जाओगे मुझे pagal की तरह,

जब करते हो मुझसे इतनी nafrat तो क्यों,

सजाते हो aankho में मुझे काजल की तरह।

Chala Jaoonga Main Dhundh Ke Baadal Ki Tarah

Shayari  10 :

तेरी नफरतों को प्यार की khushbu बना देता,

मेरे बस में अगर होता तुझे urdu सिखा देता।

Teri Nafraton Ko Pyaar Ki Khushbu Bana Deta

Nafrat shayari

similar post

waah shayar

We at waah shayari provide you with the best shayari collection you can find on the internet.

Leave a Reply

This Post Has 2 Comments