Khwaab Shayari – 10 khwaab shayari

Khwaab Shayari 1 :

Khwaab Shayari:

bas यही दो मसले

zindagi भर न हल हुए,

ना नींद poori हुई

न khwaab मुकम्मल हुए।

 

 

 

Khwaab Shayari
Khwaab Shayari

 

Khwaab Shayari 2 :

एक muskaan तू मुझे एक बार दे दे,

khwaab में ही सही एक दीदार दे दे,

बस एक बार कर दे तू आने का vada,

फिर umar भर का चाहे इन्तजार दे दे।

 

 

Khwaab Shayari
Khwaab Shayari

 

Khwaab Shayari 3 :

दिल के सागर में लहरें uthaya ना करो,

ख्वाब बनकर neend चुराया ना करो,

बहुत chot लगती है मेरे दिल को,

तुम ख्वाबो में आ कर यूँ tadpaya ना करो।

 

 

Khwaab Shayari
Khwaab Shayari

Shayari 4 :

खुदा का सुक्र है कि उसने khwaab बना दिए,

वरना तुम्हें देखने की तो hasrat रह ही जाती।

 

 

Khwaab Shayari
Khwaab Shayari

Shayari 5 :

मुझको दिखा रहा था जो manzilo का ख्वाब,

फिर मेरे saamne से वो रास्ता चला गया।

 

 

Khwaab Shayari
Khwaab Shayari

 

Shayari 6 :

टूट कर रूह में sheeshon की तरह चुभते हैं,

फिर भी हर aadmi ख़्वाबों का तमन्नाई है।

 

 

Khwaab Shayari

Shayari 7 :

ये ख्वाब jhoothe हैं और ये ख्वाहिशें अधूरी हैं,

मगर zinda रहने के लिए कुछ गलतफहमियां भी जरूरी है।

 

 

Khwaab Shayari

Shayari 8 :

आज दिल ने तेरे दीदार की khwahish रखी है,

मिले अगर fursat तो ख्वाबों मे आ जाना।

 

 

aaj dil tere deedar

Shayari 9 :

दिन भर की थकान अब mita लीजिए,

हो चुकी रात रोशनी bujha लीजिए,

एक खूबसूरत khwaab राह देख रहा है,

बस पलकों का parda गिरा लीजिए!!

 

 

din bhar ki thakaan

Shayari 10 :

सोने की jagah रोज़

badalta हूँ मैं लेकिन,

एक khwaab किसी तरह

बदलता ही nahi है

 

 

sone ki jagah

 

 

waah shayar

We at waah shayari provide you with the best shayari collection you can find on the internet.

Leave a Reply