Khuwab Shayari – Dekha ek khuwab toh ye…..

Khuwab Shayari No. 1 :

Khuwab Shayari :

Khuwab मनुष्य ko
Jeene नहीं देता aur
Manush ख्वाब ko
Kabhi मरने नहीं deta

Khuwab Shayari No. 2 :

Tere ख्वाबों का भी है शौक़ तेरी yaadon में भी है मज़ा,
Samajh नहीं आता सोकर तेरा deedar करूँ या
Jaag कर तुम्हें yaad…

Khuwab Shayari No. 3 :

Kuch ख़ास farq नहीं पड़ता
Ab ख्वाब अधूरे rehne पर
Bhut करीब से kuch
Sapno को टूटते देखा hain

Khuwab Shayari No. 4 :

Dekha एक Khuwab तो ये सिलसिले हुए,
Durr तक निगाहों में हैं गुल khile हुए,
ये geela है आपकी निगाहों se,
Phool भी हो दरमियान तो फासले hue…

Khuwab Shayari
Khuwab Shayari

Shayari No. 5 :

Sirf ख्वाब होते toh
Kya बात hoti
Aap तो खवाहिश bann बैठे
Voh भी बेइंतहा

Shayari No. 6 :

Jab निभाने ही nahin थे
तो Kyun दिखाए थे इतने Khuwab
Ab ये शिकायत mujhe
Tumse उम्र Bhar रहेगी

Shayari No. 7 :

मुद्दते lagi बुनने mein
Khuwab का स्वेटर
तैयार hua तो
मौसम ही badal चूका tha…

Shayari No. 8 :

ईमानदारी se काम karne
वालो के khuwab भले hi
पुरे na हो par
Neend जरूर purri होती है

Khuwab Shayari

Shayari No. 9 :

Kisi को नींद aati है
Magar ख्वाब से nafrat है
Kisi को ख्वाब pyaare है
Magar वो सो nahin पाते !!

Shayari No. 10 :

Kal कहीं ख्वाब हकीकत में badal जायेंगे,
आज जो Khuwab फ़क़त ख्वाब nazar आते हैं।

Shayari No. 11 :

छु jaate हो तुम मुझे हर रोज एक नया khuwab बनकर,
ये duniya तो खामखा कहती है कि तुम मेरे करीब nahin…

Shayari No. 12 :

ताबीर जो mil जाती तो एक Khuwab बहुत था,
जो शख्स गँवा baithe है नायाब bhut था,
मै कैसे बचा leta भला कश्ती-ए-दिल ko,
दरिया-ए-मुहब्बत म mein सैलाब bhut था।

Khuwab Shayari

10 khwaab Shayari

other

waah shayar

We at waah shayari provide you with the best shayari collection you can find on the internet.

Leave a Reply