Khwaab Shayari – 10 khwaab shayari

Khwaab Shayari 1 :

Khwaab Shayari:

बस यही दो मसले

ज़िन्दगी भर न हल हुए,

ना नींद पूरी हुई

न ख्वाब मुकम्मल हुए।

Bas Yehi Do Masle

Zindagi Bhar Na Hal Huye,

Na Neend Puri Hui

Na Khwab Muqammal Hue.

Khwaab Shayari
Khwaab Shayari

Khwaab Shayari 2 :

एक मुस्कान तू मुझे एक बार दे दे,

ख्वाब में ही सही एक दीदार दे दे,

बस एक बार कर दे तू आने का वादा,

फिर उम्र भर का चाहे इन्तजार दे दे।

Ek Muskaan Tu Mujhe Ek Baar De De,

Khwaab Mein Hi Sahi Ek Deedaar De De,

Bas Ek Baar Kar De Tu Aane Ka Vada,

Phir Umr Bhar Ka Chahe Intazaar De De.

Khwaab Shayari
Khwaab Shayari

Khwaab Shayari 3 :

दिल के सागर में लहरें उठाया ना करो,

ख्वाब बनकर नींद चुराया ना करो,

बहुत चोट लगती है मेरे दिल को,

तुम ख्वाबो में आ कर यूँ तड़पाया ना करो।

Dil Ke Sagar Me Lahrein Uthhaya Na Karo,

Khwaab Bankar Neend Churaya Na Karo,

Bahut Chot Lagti Hai Mere Dil Ko,

Tum Kwaabon Me Aakar Yun Tadpaya Na Karo.

Khwaab Shayari
Khwaab Shayari

Shayari 4 :

खुदा का सुक्र है कि उसने ख्वाब बना दिए,

वरना तुम्हें देखने की तो हसरत रह ही जाती।

Khuda Ka Shukr Hai Ke Usne Khwab Bana Diye,

Varna Tumhe Dekhne Ki To Hasrat Rah Hi Jati.

Khwaab Shayari
Khwaab Shayari

Shayari 5 :

मुझको दिखा रहा था जो मंजिलो का ख्वाब,

फिर मेरे सामने से वो रास्ता चला गया।

Mujhko Dikha Raha Tha Jo Manzilon Ka Khwab,

Fir Mere Saamne Se Wo Rasta Chala Gaya.

Khwaab Shayari
Khwaab Shayari

Shayari 6 :

टूट कर रूह में शीशों की तरह चुभते हैं,

फिर भी हर आदमी ख़्वाबों का तमन्नाई है।

Toot Kar Rooh Mein Sheeshon Ki Tarah Chubhte Hain,

Phir Bhi Har Aadmi Khwaabon Ka Tamannai Hai.

Khwaab Shayari

Shayari 7 :

ये ख्वाब झूठे हैं और ये ख्वाहिशें अधूरी हैं,

मगर जिंदा रहने के लिए कुछ गलतफहमियां भी जरूरी है।

Khwaab Jhoothe Hain Aur Ye Khvaahishen Adhoori Hain,

Magar Jinda Rahane Ke Liye Kuchh Galatfhamiyan Bhi Jaroori Hai.

Khwaab Shayari

Shayari 8 :

आज दिल ने तेरे दीदार की ख्वाहिश रखी है,

मिले अगर फुरसत तो ख्वाबों मे आ जाना।

Aaj Dil Ne Tere Deedaar Ki Khwaahish Rakhi Hai,

Mile Agar Fhursat To Khwaabon Me Aa Jana.

aaj dil tere deedar

Shayari 9 :

दिन भर की थकान अब मिटा लीजिए,

हो चुकी रात रोशनी बुझा लीजिए,

एक खूबसूरत ख्वाब राह देख रहा है,

बस पलकों का परदा गिरा लीजिए!!

Din Bhar Ki Thakan Ab Mita Lijiye,

Ho Chuki Raat Roshni Bujha Lijiye,

Ek Khubsurat Khwab Raah Dekh Raha Hai,

Bs Palkon Ka Parda Gira Lijiye.

din bhar ki thakaan

Shayari 10 :

सोने की जगह रोज़

बदलता हूँ मैं लेकिन,

एक ख्वाब किसी तरह

बदलता ही नहीं है

Sone Ki Jagah Roz

Badlata Hoon Mai Lekin,

Ek Khawab Kisi Tarah

Badalta Hi Nahi Hai.

sone ki jagah

waah shayar

We at waah shayari provide you with the best shayari collection you can find on the internet.

Leave a Reply