Judai Shayari in Hindi – 10 Shayari on judai

Judai Shayari  1 :

Judai Shayari :

उनकी तस्वीर को सीने से लगा लेते है,

इस तरह जुदाई का गम उठा लेते है,

किसी तरह ज़िक्र हो जाए उनका,

तो हँस कर भीगी पलकें झुका लेते है।

Unki Tasveer Ko Seene Se Laga Lete Hain,

Iss Tarah Judai Ka Gham Uthha Lete Hain,

Kisi Tarah Jikr Ho Jaye Unka,

Toh Hans Kar Bhigi Palkein Jhuka Lete Hain.

Judai Shayari
Judai Shayari

Judai Shayari  2 :

हर घड़ी सोचते हैं भलाई तेरी,

सुन नहीं सकते हैं बुराई तेरी,

हँसते हँसते रो पड़ती हैं आँखें मेरी,

इस तरह से सहते हैं जुदाई तेरी।

Har Gadi Sochte Hain Bhalayi Teri,

Sun Nahi Sakte Hain Burayi Teri,

Hanste Hanste Ro Padti Hain Aankhein Meri,

Iss Tarah Se Sahte Hain Judai Teri.

Judai Shayari
Judai Shayari

Judai Shayari  3 :

आओ किसी शब मुझे टूट के बिखरता देखो,

मेरी रगों में ज़हर जुदाई का उतरता देखो,

किन किन अदाओं से तुम्हें माँगा है खुदा से,

आओ कभी मुझे सजदों में सिसकता देखो।

Aao Kisi Shab Mujhe Toot Ke Bikharta Dekho,

Meri Ragon Mein Zahar Judai Ka Utarta Dekho,

Kin Kin Adaon Se Tujmhe Maanga Hai Khuda Se,

Aao Kabhi Mujhe Sajdon Mein Sisakta Dekho.

Judai Shayari
Judai Shayari

Judai Shayari  4 :

आज यह कैसी उदासी छाई है,

तन्हाई के बादल से भीगी जुदाई है,

टूट के रोया है फिर मेरा दिल,

जाने आज किसकी याद आई है।

Aaj Yah Kaisi Udasi Chhai Hai,

Tanhai Ke Badal Se Bheegi Judai Hai,

Toot Ke Roya Hai Phir Mera Dil,

Jaane Aaj Kiski Yaad Aai Hai.

Judai Shayari
Judai Shayari

Shayari  5 :

अपनी आँखों से यूँ तो सागर भी पिए हैं मैने,

तुझे क्या खबर जुदाई के दिन कैसे जिए हैं मैने।

Apni Aankhon Se Yoon To Saagar Bhi Piye Hain Maine,

Tujhe Kya Khabar Judai Ke Din Kaise Jiye Hain Maine.

Judai Shayari
Judai Shayari

Shayari  6 :

मेरी जिन्दगी को तन्हाई ढूँढ लेती है,

मेरी हर खुशी को रुसवाई ढूँढ लेती है,

ठहरी हुई हैं मंजिलें अंधेरों में कब से,

मेरे जख्म को गमे-जुदाई ढूँढ लेती है।

Meri Zindagi Ko Tanhai Dhundh Leti Hai,

Meri Har Khushi Ko Rusavai Dhundh Leti Hai,

Thahari Hui Hain Manjilen Andheron Mein Kab Se,

Mere Jakhm Ko Gam-e-Judai Dhundh Leti Hai.

Judai Shayari

Shayari  7 :

ग़म ही मिले इतने ज़िन्दगी में,

की खुशियों को बुलाना भूल गए,

हुआ तेरी जुदाई में ऐसा आलम,

की हम अपना ही ठिकाना भूल गए।

Gham Hi Mile Itne Zindagi Mein,

Ki Khusiyon Ko Bulana Bhool Gaye,

Huaa Teri Judai Mein Aisa Aalam,

Ki Hum Apna Hi Thikana Bhool Gaye.

Gham Hi Mile Itne Zindagi Mein

Shayari  8 :

तुम नाराज हो जाओ

रूठो या खफा हो जाओ,

पर बात इतनी भी ना बिगाड़ो

कि जुदा हो जाओ।

Tum Naraj Ho Jaao

Ruthho Ya Khafa Ho Jaao,

Par Baat Itni Bhi Na Bigaado

Ke Juda Ho Jaao.

Tum Naraj Ho Jaao

Shayari  9 :

उनके ख्यालों ने कभी हमें खोने नहीं दिया,

जुदाई के दर्द ने हमें खामोश होने नहीं दिया,

आँखे तो आज भी उनके इंतज़ार में रोती हैं,

मगर उनकी मुस्कुराहट ने हमें रोने नहीं दिया।

Unke Khyalon Ne Kabhi Hamen Khone Nahin Diya,

Judai Ke Dard Ne Hamen Khamosh Hone Nahin Diya,

Aankhe To Aaj Bhi Unke Intzaar Mein Roti Hain,

Magar Unki Muskurahat Ne Hamen Rone Nahin Diya.

Unke Khyalon Ne Kabhi Hamen Khone Nahin Diya

Shayari  10 :

हर मुलाक़ात पर वक़्त का तकाज़ा हुआ,

हर याद पर दिल का दर्द ताज़ा हुआ,

सुनी थी सिर्फ लोगों से जुदाई की बातें,

खुद पर बीती तो हक़ीक़त का अंदाज़ा हुआ।

Har Mulakat Par Waqt Ka Takaza Hua,

Har Yaad Par Dil Ka Dard Taaza Hua,

Suni Thi Sirf Logon Se Judaai Ki Baatein,

Khud Par Beeti To Haqikat Ka Andaza Hua.

Har Mulakat Par Waqt Ka Takaza Hua

Judai Shayari

similar content 

waah shayar

We at waah shayari provide you with the best shayari collection you can find on the internet.

Leave a Reply