Hindi Shayari – Hindi Shayari apno ki pyaar bhari

Hindi Shayari 1: 

  Hindi Shayari :

 

Pehchaan में नहीं aata अब 

Kaun अपना है कौन begaana 

Kisko बयां करू अपनी kahaani 

और kisse है सब chipaana 

Pehchaan में नहीं आता ab 

Kisse चाहिए दोस्ती nibhana 

कौन hamdard रहेगा mera 

और kisko है बस उपहास udaana 

Pehchaan में नहीं आता ab 

क्या sach है और क्या है bahaana 

Majboor है या है matlabi दुनिया 

Bhooli है क्यों rishte निभाना 

Pehchaan में nahin आता अब 

किस raaste मुझे है jaana 

Ghulmil के रहना है duniya में 

या फिर padega दुनियां को bisarana 

                 HIMANSHI YADAV 

  

 

Hindi Shayari
Hindi Shayari

  

 

Shayari 2: 

  

जो दूर दूर हैं 

                            

Bhale लगते हैं लोग,जो दूर door रहते हैं 

ना jhagadte हैं और ना ही kuchh कहते हैं 

Milte है कभी कभी, khairiyat पूछ लेते हैं 

Baantate नहीं गम पर दिल mein वो रहते हैं 

Chubhti हैं सबको अपनी की ही baaten 

जो रहते हैं दूर दूर unse हैं prem जताते 

जो अपने होते हैं हर khushi हर gam में 

हमारे sang भी रहते हैं ,क्यों paravaah नहीं  

Karate हैं ,उनकी निंदा भी gero से करते हैं 

Apno को chhod क्यों रहती जरूरत गेरो की 

क्या sach में अच्छे वो apno से भी होते हैं 

Bhale लगते हैं जो लोग जो दूर door रहते हैं 

                  – HIMANSHI YADAV                    

  

Hindi Shayari

Hindi Shayari Category

Behtreen hindi shayari/kavita

Awesome hindi shayari / kavita

good post

waah shayar

We at waah shayari provide you with the best shayari collection you can find on the internet.

Leave a Reply