Hasrat Shayari – dil ki hasrat shayari in hindi

Hasrat Shayari  1 :

Hasrat Shayari :

हसरत है सिर्फ तुम्हें पाने की,

और कोई ख्वाहिश नहीं इस दीवानी की

शिकवा मुझे तुमसे नहीं खुदा से है

क्या ज़रूरत थी तुम्हें इतना खूबसूरत बनाने की

Hasrat Hai Sirf Tumhe Pane Ki,

Aur Koi Khawahish Nahi Is Deewane Ki,

Shikwa Mujhe Tumse Nahi Khuda Se Hai,

Kya Zarurat Thi Tumhe Itna Khubsurat Banane Ki..

Hasrat Shayari
Hasrat Shayari

Hasrat Shayari  2 :

यार पहलू में है.. तन्हाई है,

कह दो निकले

आज क्यूँ दिल में छुपी बैठी है हसरत मेरी..!!

Yaar pahaloo mein hai.. tanhai hai,

Kah do nikale

Aaj kyun dil mein chupi baithi hai hasarat meri..!!

Hasrat Shayari
Hasrat Shayari

Hasrat Shayari  3 :

न पूँछ मेरे सब्र की इंतिहा कहाँ तकहै

तू सितम करले,तेरी हसरत जहाँ तक है

वफ़ा की उम्मीद जिन्हे होगी,उन्हे होगी

हमे तो देखना है,तू बेवफ़ा कहा तक है

Na poonchh mere sabr ki intiha kahaan tak hai

Tu sitam karle,teri hasarat jahaan tak hai

Wafaa ki umeed jinhe hogi,unhe hogi

hame to dekhana hai,tu bewafa kaha tak hai..

Hasrat Shayari
Hasrat Shayari

Shayari  4 :

मेरे पास लफ्ज़ नही

बाते नही

शिकायते नही

बस एक हसरत है के

तेरे सीने से लग कर

तेरी धड़कने सुनूँ…!!!

Mere paas laafz nahi

Baate nahi

Shikaayate nahi

Bas ek hasarat hai ke

Tere seene se lag kar

Teri dhadakane sunoon…!!!

Hasrat Shayari
Hasrat Shayari

Shayari  5 :

अधूरी हसरतों का आज भी इलज़ाम है तुम पर,

अगर तुम चाहते तो ये मोहब्बत ख़त्म ना होती।

Adhoori Hasraton Ka Aaj Bhi ilzaam Hai Tum Par,

Agar Tum Chahte Toh Yeh Mohabbat Khatm Na Hoti.

Hasrat Shayari

Shayari  6 :

दस्त-ए-तक़दीर से हर शख्स ने हिस्सा पाया,

मेरे हिस्से में तेरे साथ की हसरत आई।

Dast-e-Taqdeer Se Har Shakhs Ne Hissa Paya,

Mere Hisse Mein Tere Saath Ki Hasrat Aayi.

Hasrat Shayari

Shayari  7 :

हम भूल जाये ऐसी दिल की हसरत कहाँ,

वो याद करे हमे इतनी उसे फुर्सत कहाँ,

जिनके चारो तरफ हो अपनों का साथ,

उन्हें हमारी जरुरत कहाँ..

Ham bhool jaaye aisi dil ki hasarat kahaan,

Vo yaad kare hame itni use fursat kahaan,

Jinke chaaro taraph ho apno ka saath,

Unhe hamaari jarurat kahaan..

Hasrat Shayari

Shayari  8 :

मत पूछो कैसे गुजरता है

हर पल तुम्हारे बिना

कभी बात करने की हसरत

कभी देखने की तमन्ना

Mat poochho kaise gujarta hai

Har pal tumhare bina

Kabhi baat karane ki hasarat

Mat poochho kaise gujarta hai

Shayari  9 :

बहुत हसरत रही कि तेरे साथ चले हम,

बस तेरी और से ही कभी इशारा ना हुआ

Bahut hasarat rahi ki tere saath chale ham,

Bas teri aur se hi kabhi ishaara na hua

Bahut hasarat rahi ki tere saath

Shayari  10 :

हम तो मोहब्बत के

नाम से भी अनजान थे,

एक शख्स कि मोहब्बत ने

हमे पागल बना दिया।

Hum To Muhabbat Ke,

Naam Se Bhi Anjaan The,

Ik Shakhs Ki Chahat Ne,

Hume Pagal Bana Diya.

Hum To Muhabbat Ke

waah shayar

We at waah shayari provide you with the best shayari collection you can find on the internet.

Leave a Reply