Ghazal Shayari in urdu – dard-e-dil ke naam urdu ki ghazal

Ghazal Shayari 1 : 

  Ghazal Shayari in urdu :

क्या kar गया इक  jalwa-e-mastaana किसी का  

Rukta नहीं zanjeer से दीवाना किसी का  

kahta है सरे – हश्र यह deewaana किसी का  

Jannat से अलग chahiye वीराना किसी का 

Aapas में ulajhate हैं अबस शैख़ो – बिरहमन  

Kaaba न किसी का है न butkhaanaa किसी का  

Besaakhtaa आज उसके भी aansoo निकल आये  

Dekha न गया हाल faqeerana किसी का 

                 – Pandit Prakash 

  

Ghazal Shayari in urdu
Ghazal Shayari in urdu

Shayari 2 : 

Dil ने सीने में tadap कर उन्हें जब yaad किया  

Daro – deevaar को aamaada – e – fariyaada किया 

Vasl से shaada किया 

Hijr से nashada किया 

Usne जिस तरह से चाहा मुझे barbaad किया 

हम को dekh ओ game – furqatके न सुनने वाले  

इस बुरे हाल में भी hamane तुझे yaad किया 

Dil का क्या हाल कहूँ joshe – junoon के हाथों 

इक gharonda सा बनाया,कभी barbaad किया 

और क्या चाहिए sarmaaya – e – taskeen e dost इक़ nazar दिल की तरफ़ देख लिया,  

Shaad किया शरहे – नैरंगी – ए – असबाब kahaan तक कीजे 

Mukhtasar ये कि हमें आपने barbaad किया 

Maut इक दामे – गिरफ़्तारी – ए – ताज़ा है ‘jigar’ 

ये न samajho कि ग़मे – इश्क़ ने aazaad किया 

                    – Pandit Prakash 

  

Ghazal Shayari in urdu
Ghazal Shayari in urdu

Ghazal category

read this

waah shayar

We at waah shayari provide you with the best shayari collection you can find on the internet.

Leave a Reply