Ghazal Shayari – ghazal shayari in hindi

Ghazal Shayari  1 :

Ghazal Shayari :

तमन्ना छोड़ देते हैं… इरादा छोड़ देते हैं,

चलो एक दूसरे को फिर से आधा छोड़ देते हैं।

उधर आँखों में मंज़र आज भी वैसे का वैसा है,

इधर हम भी निगाहों को तरसता छोड़ देते हैं।

हमीं ने अपनी आँखों से समन्दर तक निचोड़े हैं,

हमीं अब आजकल दरिया को प्यासा छोड़ देते हैं।

हमारा क़त्ल होता है, मोहब्बत की कहानी में,

या यूँ कह लो कि हम क़ातिल को ज़िंदा छोड़ देते हैं।

हमीं शायर हैं, हम ही तो ग़ज़ल के शाहजादे हैं,

तआरुफ़ इतना देकर बाक़ी मिसरा छोड़ देते हैं।

Tamanna chod dete hai, irade chod dete hai,

halo ek dusre ko phir se aadhaa chod dete hain.

Udhar aankhon mein manzar aaj bhi vaise ka vaisa hai,

Idhar hum bhi nigahoon ko tarasta chod dete hai.

Hami ne apni aankho se samandar tak nichoda hai,

Hame ab aaj kal dariyaa ko pyasa chod dete hai.

Hamara katl hota hai, mohabaat ki kahani mein,

Ya yun kehlo ki hum katil ko zinda chod dete hai.

Hami shayar hai, hami toh gazal ke shahzaade hai,

Taaruff itna dekar baki misra chod dete hai.

Ghazal Shayari
Ghazal Shayari

Ghazal Shayari  2 :

मैं तो झोंका हूँ हवाओं का उड़ा ले जाऊंगा,

जागते रहना तुझे तुझसे चुरा ले जाऊंगा।

हो के कदमों पे निछावर फूल ने बुत से कहा,

ख़ाक में मिलकर भी मैं खुशबू बचा ले जाऊंगा।

कौन सी शय मुझको पहुँचाएगी तेरे शहर,

ये पता तो तब चलेगा जब पता ले जाऊंगा।

कोशिशें मुझको मिटाने की भले हो कामयाब,

मिटते मिटते भी मैं मिटने का मजा ले जाऊंगा।

शोहरतें जिनकी वजह से दोस्त दुश्मन हो गए,

सब यहीं रह जाएँगी मैं साथ क्या ले जाऊंगा।

~ डॉ. कुमार विश्वास

Main toh jhoka hu hawaao ka udaa lee jaunga,

Jagte rahna tujhe tujhse chura lee jaunga.

Ho ke kadmo pe nichawar phool ne bhot se kaha,

Khak mein mil kar bhi mai khusbu bacha lee jaunga.

Kon si shay mujhko pahuchegi tere shahar.

Ye pata toh tab chalega jab pata lee jaunga.

Koshishe mujhko mitane ki bale ho kamyaab,

Mitte mitte bhi main mitne ka mazaa lee jaunga.

Shoharte itni wajah se mere dost dushman ho gae,

Sab yahi reh jaenge mai saath lee jaunga.

– DR. KUMAR VISHWAS

Ghazal Shayari
Ghazal Shayari

Ghazal Shayari  3 :

कोई जाता है यहाँ से न कोई आता है,

ये दीया अपने ही अँधेरे में घुट जाता है।

सब समझते हैं वही रात की किस्मत होगा,

जो सितारा बुलंदी पर नजर आता है।

मैं इसी खोज में बढ़ता ही चला जाता हूँ,

किसका आँचल है जो पर्बतों पर लहराता है।

मेरी आँखों में एक बादल का टुकड़ा शायद,

कोई मौसम हो सरे-शाम बरस जाता है।

दे तसल्ली कोई तो आँख छलक उठती है,

कोई समझाए तो दिल और भी भर आता है।

Koi jata hai yaha se na koi aata hain,

Ye diya apne hi andhere mein ghut jaata hain.

Sab samjhte hain vahi raat ki kismat hogi,

Jo sitaara bulandi par nazar aata hain.

Main iski khoj mein badhta hi chala jaata hu,

Kiska anchal hain jo parbatho par lahraata hain.

Meri aankho mein ekk baadal ka tukda shayad,

Koi mausam ho sare-sham baras jaata hu.

De tasalli koi toh aankh chalak uthti hain,

Koi samjhae toh dil aur bhi bhar aata hain.

Ghazal Shayari
Ghazal Shayari

Ghazal Shayari  4 :

ये जो है हुक्म मेरे पास न आये कोई,

इसलिए रूठ रहे हैं कि मनाये कोई।

ताक में है निगाह-ए-शौक खुदा खैर करे,

सामने से मेरे बचता हुआ जाए कोई।

हाल अफ़लाक-ओ-ज़मीन का जो बताया भी तो क्या,

बात वो है जो तेरे दिल की बताये कोई।

आपने दाग़ को मुँह भी न लगाया अफसोस,

उसको रखता था कलेजे से लगाये कोई।

हो चुका ऐश का जलसा तो मुझे ख़त भेजा,

आप की तरह से मेहमान बुलाये कोई।

~ दाग़ देहलवी

Ye jo hai hukum mere pas na aae koi,

Issliye ruth rhe hai ki manae koi.

Taak mein hai nigahein-e-shauk khuda kher kare,

Samne se mere bachta hua jae koi.

Haal aflaak-o-zameen ka jo bataya bhi toh kya,

Baat voh hai jo tere dil ki batae koi.

Aapne daag ko muh bhi na lagaya afsos,

Usko rakhta tha kaleje se lagae koi.

Ho chuka aish ka jalsa toh mujhe khat bheja,

Aap ki tarah se mehmaan bulae koi.

:- DAAG DEHLAVI

Ghazal Shayari
Ghazal Shayari

Shayari  5 :

हकीक़त भी यहीं है और है फ़साना भी,

मुश्किल है किसी का साथ निभाना भी।

यूँ ही नहीं कुछ रिश्ते पाक होते हैं,

पल में रूठ जाना भी पल में मान जाना भी।

लिहाज़ नहीं दिखता की हो बेग़ैरत तुम,

लाज़िम है किसी एक वक़्त में शरमाना भी।

मोहब्बत हो शहर में इश्क़ हर दिल में हो,

जरूरी है दीवानी भी जरूरी है दीवाना भी।

जरा सा सोच-समझ के करना बातें आपस में,

होने लगे हैं आजकल के बच्चे सयाना भी।

झूठ और सच बता सकता हूँ तेरे चेहरे से,

आया अब तक नहीं एक राज़ छुपाना भी।

– प्रभाकर “प्रभू”

Haqiqaat bhi yahi hai aur hai fasana bhi,

Mushkil hai kisi ka saath nibhana bhi.

Yun hi kuch rishte pak hote hain,

Pal mein rooth jaana bhi pal mein maan jaana bhi.

Lihaaz nhi dikhta ki ho begaerat tum,

Lazim hain kisi ek waqt mein sharmana bhi.

Mohabaat ho shahar mein ishq har dil mein ho,

Zaruri h dewaani bhi zaruri hai dewaana bhi.

Zara sa soch-samjh ke karna baate aapas mein,

Hone lage hain aaj kal ke bache sayane bhi.

Juth aur sach bata sakta hu tere chehre se,

Aaya ab tak nhi ekk ek raaz chupana bhi.

:- PRABHAKAR “PRABHU”

Ghazal Shayari
Ghazal Shayari

Shayari  6 :

आँखों से मेरे इस लिए लाली नहीं जाती,

यादों से कोई रात खा़ली नहीं जाती।

अब उम्र ना मौसम ना रास्‍ते के वो पत्ते,

इस दिल की मगर ख़ाम ख्‍़याली नहीं जाती।

माँगे तू अगर जान भी तो हँस कर तुझे दे दूँ,

तेरी तो कोई बात भी टाली नहीं जात

Aankho se tere issliye laali nhi jati,

Yaado se koi raat khali nhi jati.

Ab umar na mausam na raste ke voh patte,

Iss dil ki magar kham khayali nhi jati.

Mange bhi tu agar jaan toh hass kar tujhe de denge,

Teri toh koi baat bhi taali nhi jaati.

Ghazal Shayari

Shayari  7 :

अपने होंठों पर सजाना चाहता हूँ,

आ तुझे मैं गुन गुनाना चाहता हूँ,

कोई आँसू तेरे दामन पर गिरा कर,

बूँद को मोती बनाना चाहता हूँ,

थक गया मैं करते करते याद तुझको,

अब तुझे मैं याद आना चाहता हूँ,

Apne hotho par sajana chahta hu,

Aa tujhe mai gun gunana chahta hu.

koi aasu tere daaman par gira kar,

Boond ko mooti bana rahta hu.

Thak gaya mai karte karte yaad tujhe,

Ab tujghe mai yaad aana chahata hu.

Ghazal Shayari

Shayari  8 :

बस इक लम्हा , तेरी ख़ुशबू का , गुज़ारा हमने ,

ज़िन्दगी भर उसे , फिर दिल में , संवारा हमने !

जब भी यादों ने , ख़्वाबों से , जगाया है हमें ,

ले के होंठों पे , हँसी तुमको , पुकारा हमने !

कोई कहता हमें , पागल तो , दीवाना भी कोई ,

किया दुनिया का , यूँ हँसना भी , गंवारा हमने !

वक़्त चलता गया , पानी के , नज़ारों की तरह ,

चाहे कितना किया , कश्ती से , किनारा हमने !

याद है शाम वो , ठहरी तेरी , पहली वो नज़र ,

तब से खोया है , हर इक साँस , हमारा हमने !

Bas ekk lamha, teri khushbu ka, gujara humne,

Zindagi bhar usse, phir dil mein, sawara humne!

Jab bhi yaado ne, khawabo se, jagaayaa hain hame,

Leke haatho pe, hasi tumko, pukara ha humne!

Koi kehta hame, pagal toh, dewaana bhi koi,

Kiya duniya ka, yun hasna bhi, gawara humne!

Waqt chalta gaya, paani ke, naazaro ki tarah,

Chahe kitna kiya, kashti se, kinara humne.

Yaad hai sham voh, thahri teri, pehli voh nazar,

Tab se khoya hai, har ek saas, tumhara humne!

Bas ekk lamha, teri khushbu ka, gujara humne

Shayari  9 :

ना शिकायत है कोई , ना ही है , कोई अब गिला ,

ये तो क़िस्मत थी , हमारी जिसे , चाहा ना मिला !

चाँदनी रात भर , शोलों सी , जलाती थी बदन ,

भूला हूँ ख़्वाब जो , उस रात , हमारा ना खिला !

धूप से दिल की , सूखा था इक , ओस का फूल ,

याद पंखुड़ियाँ , किताबों में , मुझको ना दिला !

अब हुआ जाके यक़ीं , आईने को , नीयत पे मेरी ,

अक्स जब उसको , आँखों में , तुम्हारा ना मिला !

साँसों से तेरी , पिघल जाते थे , लब मेरे अक्सर ,

वो वक़्त याद आये , साक़ी मुझे , इतना ना पिला !

Na shikayat hai koi, na hi hai, ab koi gila,

Ye toh kismat thi, hamari jise, chaha na mila!

Chandni raat bhar, sholo si, jalati thi badan,

Bhula hu khawab jo, uss raat, hamara na khila!

Dhoop se dil ki, sukha tha ekk, oss ka phool,

Yaad pankhudhiya, kitaabo mein, mujhko na dila!

Ab hua jaake yaaki, aaine ko, niyaat pe meri,

Akas jab usko, aankho mein, tumhara na mila!

Saaso se teri, pighal jaate the, labb mere aksar,

Voh waqt yad aae, saaki mujhe, itna na pila!

Na shikayat hai koi, na hi hai, ab koi gila

Shayari  10 :

तुझको तनहाइयों में , सजाते रहे ,

उम्र भर यूँ ही हम , गुनगुनाते रहे !

तेरी ख़ामोशियों से , नहीं था गिला ,

ख़ुद को ही सुनते और , सुनाते रहे !

बीते लम्हे वो और , गुज़रे हुए दिन ,

ख़ुद की साँसों में हम , बसाते रहे !

तुझसे माँगा नहीं था , तुझको कभी ,

फिर भी ख़ुद को तुझ पे, लुटाते रहे !

आशिक़ी का तुझको , पता तब चला ,

बिन कहे जब दुनिया से हम , जाते रहे !

Tujhko tanhaiyo mein, sajate rahe,

Umar bhar yun hi hum, gungunate rahe!

Teri khamoshiyo se, nhi tha gila,

Khud ko hi sunte aur, sunate rahe!

Beete lamhe voh aur, gujre hue din,

Khud ki saaso mein hum, basate rahe!

Tujhse maangaa nhi tha, tujhko kabhi,

Phir bhi khud ko tujhe pe, lootaate rahe!

Ashiqui ka tumko, pata tan chala,

Binn kahe jab duniya se hum, jaate rahe!

Tujhko tanhaiyo mein, sajate rahe,

Read Ghazal here 

popular post 

waah shayar

We at waah shayari provide you with the best shayari collection you can find on the internet.

Leave a Reply

This Post Has One Comment