Republic Day Shayari : Jai Jawan Jai Kisan

Republic Day Shayari No. 1 :

Republic Day Shayari :

Kareeb मुल्क के आओ Toh कोई बात बने,
बुझी Mashaal को जलाओ तो Koi बात बने,
Khoo गया है जो Lahu शहीदों का,
Usme अपना लहू मिलाओ तो Koi बात बने।

Republic Day Shayari No. 2 :

Teen रंग का नही वस्त्र, Ye ध्वज देश की शान हैं,
Har भारतीय के Dilo का स्वाभिमान हैं,
Yahi है गंगा, यही हैं Himalaya, यही हिन्द की जान हैं,
और Teen रंगों में रंगा Hua ये अपना हिन्दुस्तान हैं
जय हिन्द

Republic Day Shayari No. 3 :

Main भारतवर्ष का Hardam अमिट सम्मान करता हूँ,
Yahan की चांदनी मिट्टी का ही गुणगान Karta हूँ,
Mujhe चिंता नहीं है स्वर्ग Jakar मोक्ष पाने की,
तिरंगा हो कफ़न Meri, बस यही Aarman रखता हूँ।
JAI HIND !!!

Republic Day Shayari No. 4 :

खुशनसीब हैं वो Jo वतन पर मिट Jaate हैं,
Maarkar भी वो लोग Amar हो जाते हैं,
Karta हूँ उन्हें सलाम ए Watan पे मिटने वालों,
तुम्हारी हर साँस में तिरंगे का Naseeb बसता है…

 

Republic Day Shayari

 

Shayari No. 5 :

ऐ मेरे Watan के लोगों तुम खूब Laga लो नारा
ये शुभ दिन है Hum सब का लहरा लो तिरंगा Pyaara
पर मत भूलो Seema पर वीरों ने है Praan गँवाए
Kuch याद उन्हें भी कर लो जो लौट के Ghar न आये….

Shayari No. 6 :

Likh रहा हूं मैं Anjaam जिसका कल आगाज आयेगा,
Mere लहू का हर एक katra इकंलाब लाऐगा
मैं रहूँ या ना रहूँ पर ये Wada है Tumse मेरा कि,
मेरे बाद Watan पर मरने वालों का सैलाब Aayega..

Shayari No. 7 :

Itni सी बात Hawao को बताये रखना
Roshni होगी चिरागों को Jalaye रखना
लहू Dekar की है जिसकी हिफाजत Humne
ऐसे Tirange को हमेशा Dil में बसाये रखना

Shayari No. 8 :

देशभक्तों से ही Desh की Shaan है
देशभक्तों से ही Desh का Maan है
हम उस देश के Phool हैं Yaaro
Jis देश का Naam हिंदुस्तान है

 

Republic Day Shayari

 

Shayari No. 9 :

लहराएगा Tiranga अब सारे आसमान Par
Bharat का ही Naam होगा सबकी जुबान पर
ले लेंगे उसकी Jaan या खेलेंगे अपनी Jaan पर
Koi जो उठाएगा Aankhe हिंदुस्तान पर…

Shayari No. 10 :

खींच Doh अपने ख़ूँ से जमीं Par लकीर
इस Tarah आने पाये ना रावण Koi
Todd दो अगर Koi हाथ उठने लगे
छू ना पाये Sita का Daaman कोई
Ram भी Tum तुम्हीं लक्ष्मण साथियो
Ab तुम्हारे हवाले Watan साथियो

Shayari No. 11 :

Zindagi है कल्पनाओं की jang
Kuch तो करो इसके लिए Dabang
Jiyo शान से Bharo उमंग
लहराओ सबसे Dilo में Desh के लिए तिरंग

Shayari No. 12 :

Kisi गजरे की खुशबु को महकता Chod आया हूँ,
Meri नन्ही सी चिड़िया को चहकता Chod आया हूँ,
Mujhe छाती से अपनी तू लगा लेना ऐ Bharat माँ,
मैं Apni माँ की बाहों को तरसता Chod आया हूँ।

 

Republic Day Shayari

 

 

Sarfaroshi ki Tamanna:

Other

 

waah shayar

We at waah shayari provide you with the best shayari collection you can find on the internet.

Leave a Reply