Desh Bhakti Shayari – desh-prem shayari in hindi

Desh Bhakti Shayari 1 :

Desh Bhakti Shayari :

सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है,
देखना है जोर कितना बाजु-ए-कातिल में है ।

एक से करता नहीं क्यों दूसरा कुछ बातचीत,
देखता हूँ मैं जिसे वो चुप तेरी महफिल में है ।

ऐ शहीदे-मुल्को-मिल्लत मैं तेरे ऊपर निसार
अब तेरी हिम्मत का चर्चा ग़ैर की महफिल में है ।
सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है,
देखना है जोर कितना बाजु-ए-कातिल में है ।

रहबरे-राहे-मोहब्बत रह न जाना राह में
लज्जते-सेहरा-नवर्दी दूरि-ए मंजिल मेंहै ।
यूँ खड़ा मकतल में कातिल कह रहा है बार-बार
क्या तमन्ना-ए-शहादत भी किसी के दिल में है?

वक्त आने दे बता देंगे तुझे ऐ आसमाँ,
हम अभी से क्या बतायें क्या हमारे दिल में है ।

खींच कर लाई है सबको कत्ल होने की उम्मींद,
आशिकों का आज जमघट कूंच-ए-कातिल में है ।
सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है,
देखना है जोर कितना बाजु-ए-कातिल में है ।

है लिये हथियार दुश्मन ताक में बैठा उधर
और हम तैय्यार हैं सीना लिये अपना इधर
खून से खेलेंगे होली गर वतन मुश्किल में है
सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है

हाथ जिनमें हो जुनून कटते नहीं तलवार से
सर जो उठ जाते हैं वो झुकते नहीं ललकार से
और भडकेगा जो शोला-सा हमारे दिल में है
सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है

हम तो निकले ही थे घर से बांधकर सर पे कफ़न
जाँ हथेली पर लिये लो बढ चले हैं ये कदम
जिंदगी तो अपनी मेहमाँ मौत की महफ़िल में है
सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है

दिल मे तूफानों की टोली और नसों में इन्कलाब
होश दुश्मन के उडा देंगे हमें रोको न आज
दूर रह पाये जो हमसे दम कहाँ मंजिल में है
सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है
देखना है जोर कितना बाजु-ए-कातिल में है ।

Sarfaroshi ki Tamanna:

Sarfaroshi ki tamanna ab hamaare dil mein hai
Dekhna hai zor kitna baazu-e-qaatil mein hai

Ek se Karta nahin kyun doosra kuch baat-cheet
Dekhta hun main jise woh chup teri mehfil mein hai.

Aye shaheed-e-mulk-o-millat main tere oopar nisaar,
Ab teri himmat ka charcha ghair ki mehfil mein hai
Sarfaroshi ki tamanna ab hamaare dil mein hai
Dekhna hai zor kitna baazu-e-qaatil mein hai

Rehbare-rahe-mohabbat reh na jaane raah mein,
lajjate-sahraah navardi duaari ae manzil mein hai.
Yuun khadaa maqtal mein qaatil kah rahaa hai baar baar
Kya tamannaa-e-shahaadat bhi kisee ke dil mein hai

Waqt aanay dey bata denge tujhe aye aasman
Hum abhi se kya batayen kya hamare dil mein hai

Khainch kar layee hai sab ko qatl hone ki ummeed
Aashiqon ka aaj jumghat koocha-e-qaatil mein hai
Sarfaroshi ki tamanna ab hamaare dil mein hai
Dekhna hai zor kitna baazu-e-qaatil mein hai

Hai liye hathiyaar dushman taak mein baitha udhar
Aur hum taiyyaar hain seena liye apna idhar
Khoon se khelenge holi gar vatan muskhil mein hai
Sarfaroshi ki tamanna ab hamaare dil mein hai

Haath jin mein ho junoon katt te nahi talvaar se
Sar jo uth jaate hain voh jhukte nahi lalkaar se
Aur bhadkega jo shola-sa humaare dil mein hai
Sarfaroshi ki tamanna ab hamaare dil mein hai

Hum to nikle hi the ghar se baandhkar sar pe qafan
Jaan hatheli par liye lo badh chale hain ye qadam
Zindagi to apni mehmaa, maut ki mehfil mein hai
Sarfaroshi ki tamanna ab hamaare dil mein hai

Dil mein tuufaanon ki toli aur nason mein inqilaab
Hosh dushman ke udaa denge humein roko na aaj
Duur reh paaye jo humse dam kahaan manzil mein hai
Sarfaroshi ki tamanna ab hamaare dil mein hai.
Dekhna hai zor kitna baazuay qaatil mein hai.
:- Ram Prasad Bismil

Desh Bhakti Shayari

Desh Bhakti Shayari 2 :

भारतमाता तुम्हें पुकारे आना ही होगा,
कर्ज अपने देश का चुकाना ही होगा,
दे करके कुर्बानी अपनी जान की,
तुम्हे मरना भी होगा मारना भी होगा।

Bharatmata Tumhen Pukare Aana Hi Hoga,
Karz Apne Desh Ka Chukana Hi Hoga,
De Karake Kurbani Apni Jaan Ki,
Tumhe Marna Bhi Hoga Maarna Bhi Hoga.

Desh Bhakti Shayari

Desh Bhakti Shayari 3 :

किसी गजरे की खुशबु को महकता छोड़ आया हूँ,
मेरी नन्ही सी चिड़िया को चहकता छोड़ आया हूँ,
मुझे छाती से अपनी तू लगा लेना ऐ भारत माँ,
मैं अपनी माँ की बाहों को तरसता छोड़ आया हूँ।

Kisi gajre ki khushbu ko mehakta chod aaya hu,
Meri nanhi si chidhiya ko chahakta chod aaya hu,
Mujhe chati se apni tu laga lena aae bharat maa,
Mai apni maa ki baaho ko tarasta chod aaya hu.

Desh Bhakti Shayari

Desh Bhakti Shayari 4 :

खुशनसीब हैं वो जो वतन पर मिट जाते हैं,
मरकर भी वो लोग अमर हो जाते हैं,
करता हूँ उन्हें सलाम ए वतन पे मिटने वालों,
तुम्हारी हर साँस में तिरंगे का नसीब बसता है…

Khushnaseeb hai voh jo watan par mit jaate hai,
Maarkar bhi voh log amar ho jaate hai,
Karta hu unhe salaam ae watan pe mitne waalo,
Tumhari har saas meh tirange kanaseeb basta hai.

Desh Bhakti Shayari

Desh Bhakti Shayari 5 :

लिख रहा हूं मैं अजांम जिसका कल आगाज आयेगा,
मेरे लहू का हर एक कतरा इकंलाब लाऐगा
मैं रहूँ या ना रहूँ पर ये वादा है तुमसे मेरा कि,
मेरे बाद वतन पर मरने वालों का सैलाब आयेगा

Likh rha hu mai anjaam jiska kal aajaag aaega,
Mere lahu ka har ekk katra inqalaab laaegaa,
Mai rahu ya na rahu par ye wada hai tumse mera ki,
Mere baad watan par marne walo ka salaam aaega.

Desh Bhakti Shayari

Shayari 6 :

इतनी सी बात हवाओं को बताये रखना
रौशनी होगी चिरागों को जलाये रखना
लहू देकर की है जिसकी हिफाजत हमने
ऐसे तिरंगे को हमेशा दिल में बसाये रखना

Itni si baat hawao ko bataye rakhna,
Roshni hogi chirago ko jalae rakhna,
Lahu degar ki hain jiski hifazat humne,
Aise tirange ko hamesha dil mein basae rakhna.

Desh Bhakti Shayari

Shayari 7 :

जब आँख खुले तो धरती हिन्दुस्तान की हो:
जब आँख बंद हो तो यादेँ हिन्दुस्तान की हो:
हम मर भी जाए तो कोई गम नही लेकिन,
मरते वक्त मिट्टी हिन्दुस्तान की हो।

Jab aankh khule toh dharti Hindustan ki ho,
Jab aankh band ho toh yaade Hindustan ki ho,
Hum mar bhi jae toh koi gham nahi lekin,
Marte waqt mitti Hindustan ki ho.

Desh Bhakti Shayari

Shayari 8 :

लुटेरा है अगर आजाद तो अपमान सबका है,
लुटी है एक बेटी तो लुटा सम्मान सबका है,
बनो इंसान पहले छोड़ कर तुम बात मजहब की,
लड़ो मिलकर दरिंदों से ये हिंदुस्तान सबका है।

Lootera hai agar aazad toh apmaan sabka hai,
Luti hai ekk beti toh luta samman sabka hai,
Bano insaan pehle chod kar tum baat mazhab ki,
Laadoo milkar darindo se ye Hindustan sabka hai.

lootera hai agar

Shayari 9 :

ज़माने भर में मिलते हे आशिक कई ,
मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता ,
नोटों में भी लिपट कर, सोने में सिमटकर मरे हे कई ,
मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं होता

Zamanae bhar mein milte hain aashiq kae,
Magar watan se khubsurat koi sanam nahi hota,
Nooto mein bhi lepaat kar, soone mein simatkar maare hain kae,
Magar tirange se khubsurat koi kafan nahi hota.

zamane bhar

Shayari 10 :

कतरा – कतरा भी दिया वतन के वास्ते ,
एक बूँद तक ना बचाई इस तन के वास्ते ,
यूं तो मरते है लाखो लोग हर रोज़ ,
पर मरना तो वो है जो जान जाये वतन के वास्ते …

katraa-katraa bhi diya watan ke vaaste,
Ekk boond tak na bachi iss tan ke vaaste,
Yu toh marte hai laakho log har rooz,
Par marna toh voh hain jo jaan jae watan ke vaaste.

katra katra

Read more:

Desh Bhakti shayari 1

123

waah shayar

We at waah shayari provide you with the best shayari collection you can find on the internet.

Leave a Reply