Barish Shayari – barsaat shayari in hindi

Barish Shayari  1 :

Barish Shayari :

तुमको बारिश पसंद है मुझे बारिश में तुम,

तुमको हँसना पसंद है मुझे हस्ती हुए तुम,

तुमको बोलना पसंद है मुझे बोलते हुए तुम,

तुमको सब कुछ पसंद है और मुझे बस तुम।

Tumko Barish Pasand Hai Mujhe Barish Me Tum,

Tumko Hansna Pasand Hai Mujhe Haste Hue Tum,

Tumko Bolna Pasand Hai Mujhe Bolte Huye Tum,

Tumko Sab Kuch Pasand Hai Aur Mujhe Bas Tum.

Barish Shayari
Barish Shayari

 

Barish Shayari  2 :

काश कोई इस तरह भी वाकिफ हो

मेरी जिंदगी से,

कि मैं बारिश में भी रोऊँ और

वो मेरे आँसू पढ़ ले।

Kash Koi Is Tarah Bhi Wakif Ho

Meri Zindagi Se,

Ki Main Barish Me Bhi Roun Aur

Wo Mere Aansu Parh Le.

 

Barish Shayari

Barish Shayari  3 :

बारिश में आज भीग जाने दो,

बूंदों को आज बरस जाने दो,

न रोको यूँ खुद को आज,

भीग जाने दो इस दिल को आज।

Barish Mein Aaj Bheeg Jaane Do.

Bundo Ko Aaj Baras Jane Do.

Na Roko Yu Khud Ko Aaj,

Bheeg Jane Do Is Dil Ko Aaj.

 

Barish Shayari
Barish Shayari

Barish Shayari  4 :

बरिश का यह मौसम कुछ याद दिलाता है,

किसी के साथ होने का एहसास दिलाता है,

फिजा भी सर्द है यादें भी ताज़ा हैं,

यह मौसम किसी का प्यार दिल में जगाता है।

Barish Ka Yeh Mausam Kuchh Yaad Dilata Hai,

Kisi Ke Saath Hone Ka Ehsaas Dilata Hai,

Fiza Bhi Sard Hai Yaadein Bhi Taaza Hai,

Yeh Mausam Kisi Ka Pyaar Dil Me Jagata Hai.

 

Barish Shayari
Barish Shayari

Barish Shayari  5 :

ऐ बारिश जरा थम के बरस,

जब वो आ जाये तो जम के बरस,

पहले न बरस के वो आ न सके,

फिर इतना बरस के वो जा न सके।

Ai Barish Jara Tham Ke Baras,

Jab Wo Aa Jaye To Jam Ke Baras,

Pehle Na Baras Ke Wo Aa Na Sake,

Fir Itna Baras Ki Wo Ja Na Sake.

 

Barish Shayari
Barish Shayari

Shayari  6 :

क्या मस्त मौसम आया है,

हर तरफ पानी ही पानी लाया है,

तुम घर से बाहर मत निकलना,

वरना लोग कहेंगे बरसात हुई नहीं,

और मेढक निकल आया है।

Kya Mast Mausam Aaya Hai,

Har Taraf Pani Hi Pani Laya Hai,

Tum Ghar Se Baahar Mat Niklna,

Varna Log Kahenge Barsat Hui Nahi,

Aur Mendhak Nikal Aaya Hai.

 

Barish Shayari

Shayari  7 :

आज फिर मौसम नम हुआ मेरी आँखों की तरह,

शायद बादलो का भी दिल किसी ने तोड़ा होगा।

Aaj Fir Mausam Nam Hua Meri Aankho Ki Tarah,

Shayad Baadalo Ka Bhi Dil Kisi Ne Toda Hoga.

 

Barish Shayari

Shayari  8 :

सतरंगी अरमानो वाले सपने दिल में पलते हैं,

आशा और निराशा की धुन में रोज मचलते हैं,

बरस-बरस के सावन सोंचे प्यास मिटाई दुनिया की,

वो क्या जाने दीवाने तो सावन में ही जलते हैं।

Satrangi Armano Wale Sapne Dil Mein Palte Hain,

Aasha Aur Nirasha Ki Dhun Mein Roz Machalte Hain,

Baras-Baras Ke Sawan Sonche Pyas Mitai Duniya Ki,

Wo Kya Jaane Deewane To Sawan Me Hi Jalte Hain.

 

Satrangi Armano Wale Sapne Dil Mein Palte Hain

Shayari  9 :

मैं तेरे हिज्र की बरसात में कब तक भीगूँ,

ऐसे मौसम में तो दीवारे भी गिर जाती हैं।

Main Tere Hijr Ki Barsaat Me Kab Tak Bheegun,

Aise Mausam Me To Deewarein Bhi Gir Jati Hain.

 

Main Tere Hijr Ki Barsaat Me Kab Tak Bheegun,

Shayari  10 :

मेरे ख्यालों में वही सपनो में वही,

लेकिन उनकी यादों में हम थे ही नहीं,

हम जागते रहे दुनियां सोती रही,

एक बारिश ही थी जो हमारे साथ रोती रही।

Mere Khayalon Me Wahi Sapno Me Wahi,

Lekin Unki Yaadon Me Hum The Hi Nahi,

Hum Jaagte Rahe Duniya Soti Rahi,

Ek Barish Hi Thi Jo Humare Sath Roti Rahi.

 

Mere Khayalon Me Wahi Sapno Me Wahi

Click here to read many beautiful barish shayari posts.

Click here to read beautiful best post.

waah shayar

We at waah shayari provide you with the best shayari collection you can find on the internet.

Leave a Reply